समाचार

देश का सबसे बड़ा रेल हादसा! बालासोर दुर्घटना, 300 मौतों की हो चुकी है पुष्टि

ओडिशा के बालासोर में बीती रात करीब 7 बजे हुए रेल हादसे में मरनेवाले यात्रियों की तादाद लगातार बढ़ती जा रही है। जहां दो तीन घंटे पहले 120 लोगों के मारे जाने की बात सामने आई थी, वहीं अब यह आंकड़ा 233 के करीब पहुंच गया है। जबकि 900 के करीब जख्मी हैं, ऐसे में मरनेवालों की संख्या और बढ़ सकती है। वहीं कहा जा रहा है जिस तरह से मरनेवालों की संख्या बढ़ रही है, यह देश की सबसे बड़ी दुर्घटना हो सकती है।

बहुत बुरी स्थिति में थे लोग

अंधेरा होने के कारण रोते-बिलखते लोग अपनों को तलाशते रहे। कुछ को धड़ मिला तो सिर नहीं। लोग चीखते हुए अपनों के टुकड़े बटोरते दिखे। हालात ऐसे थे कि बोगियों में फंसे बच्चों और महिलाओं को कोच से बाहर निकालने के लिए सीढ़ी का सहारा लेना पड़ा। ट्रेन में फंसे हुए लोगों को बाहर निकालने के स्थानीय लोग भी देर रात तक जी-जान से जुटे दिखे। अस्पताल में भी घायलों की मदद के लिए कई लोग खड़े थे।

यह देश का दूसरा सबसे बड़ा ट्रेन हादसा

यह देश का दूसरा सबसे बड़ा ट्रेन हादसा है। इससे पहले 6 जून 1981 को बिहार के सहरसा में ट्रेन हादसे में 235 लोग मारे गए थे। 900 लोगों को ले जारी पैसेंजर ट्रेन पटरी से उतरकर बागमती नदी में गिर गई थी। हालांकि गैर-अधिकारिक आंकड़ों के मुताबिक, इस हादसे में 500 से ज्यादा लोगों की जान गई थी।

मृतक के परिजनों को रेल मंत्रालय देगा 10 लाख मुआवजा

ओडिशा में हुए इस भयावह ट्रेन हादसे में 207 लोगों की जानें गई हैं. रेल मंत्राय की ओर से मृतकों के परिजनों को मुआवजा राशि देने का एलान कर दिया गया है. इस हादसे में मारे गए लोगों के परिजनों को 10-10 लाख रुपये की आर्थिक सहायता राशि दी जाएगी. वहीं, इस हादसे में गंभीर रूप से घायल लोगों को दो-दो लाख रुपये की अनुग्रह राशि दी जाएगी. रेल मंत्री, अश्विनी वैष्णव ने इस हादसे को दुर्भाग्यपूर्ण बताया ही साथ ही उन्होंने कहा कि, “इस हादसे में जान गंवाने वालों के परिजनों को 10-10 लाख रुपये, गंभीर रूप से घायलों के लिए दो लाख रुपये, मामूली रूप से चोटिलों के लिए 50,000 रुपये की सहायता राशि प्रदान की जाएगी

पीएमओ ने भी जारी की अनुग्रह राशि

पीएम मोदी ने ओडिशा ट्रेन दुर्घटना पीड़ितों के लिए 2 लाख रुपये, घायलों के लिए 50,000 रुपये की अनुग्रह राशि की घोषणा की है. पीएमओ ने ट्वीट कर इसकी जानकारी दी है।

हमसे जुड़े

जरा हट के

पुराने समाचार यहाँ देखें