समाचार

जनशताब्दी एक्सप्रेस की चपेट में आने से बचे सैकड़ों श्रद्धालु

सहरसा-मानसी रेलखंड में ट्रेन हादसे से ठीक एक घंटे पहले किऊल-मोकामा रेलखंड में अशोकधाम रेलवे हाल्ट पर सोमवार को एक और बड़ा ट्रेन हादसा हो जाता। मगर, ड्राइवर व गार्ड की सूझबूझ से यह हादसा टल गया। सुबह 7:24 बजे डाउन लाइन पर पटना की ओर से आ रही 12024 पटना-हावड़ा जनशताब्दी एक्सप्रेस ट्रेन की चपेट में आने से सैकड़ों श्रद्धालु बच गए। सभी श्रद्धालु हाल्ट से सटे प्रसिद्ध श्री इंद्रदमनेश्वर महादेव मंदिर अशोकधाम में सावन की अंतिम सोमवारी पर पूजा-अर्चना कर वापस घर जाने के लिए हाल्ट पर ट्रेन का इंतजार कर रहे थे।

अशोकधाम हाल्ट पर अप व डाउन लाइन के ट्रैक पर सैकड़ों की संख्या में महिलाएं, युवक व युवतियां बैठकर ट्रेन का इंतजार कर रही थी। इसी बीच डाउन लाइन पर जनशताब्दी एक्सप्रेस ट्रेन आ पहुंची। ट्रेन को करीब आते देख पटरी पर जहां-तहां बैठे श्रद्धालुओं में भगदड़ मच गई। वे इधर उधर भागने लगे। इस क्रम में दर्जन भर से अधिक श्रद्धालु ट्रैक पर गिरकर चोटिल हो गए। ट्रेन के गार्ड व चालक ने अपनी सूझबूझ का परिचय देते हुए इमरजेंसी ब्रेक लेकर ट्रेन को रोक दिया। ट्रैक पर श्रद्धालुओं की भीड़ आधा किलोमीटर दूरी तक फैली थी। ट्रैक खाली होने पर जनशताब्दी ट्रेन खुली। भीड़ व भगदड़ की वजह से आधा घंटा तक ट्रेन हाल्ट पर रुकी रही। इसके अलावा टाटा-दानापुर एक्सप्रेस सहित कई ट्रेनें भी रुकी रही। सूचना पर किऊल रेल थाना पुलिस भी हाल्ट पर पहुंची। इस बीच यह अफवाह फैल गई कि जनशताब्दी ट्रेन से श्रद्धालुओं की कटकर मौत हो गई। इस अफवाह से शहर व गांव के लोग परेशान हो गए और घटना की सच्चाई जानने के लिए बेचैन रहे।

हमसे जुड़े

जरा हट के

पुराने समाचार यहाँ देखें