बड़हिया

मछुआरों द्वारा नदी में जहर देकर मछली मारने की मुख्यमंत्री से शिकायत

बड़हिया: बड़हिया प्रखंड के पाली पंचायत में मछुआरों एवं स्थानीय लोगों के बीच का विवाद कम होने का नाम नहीं ले रहा है।मछली मारने को लेकर कुछ दिन पूर्व पाली ग्राम के मछुआरों एवं महरामचक के लोगों के बीच जमकर मारपीट हुई थी।दोनों ही पक्ष की ओर से एक दूसरे पर आरोप लगाते हुए वीरूपुर थाने में प्राथमिकी दर्ज करायी गयी थी।इसी क्रम में एक बार पुनः पाली ग्राम के सैंेकड़ों ग्रामीणों ने बिहार के मुख्यमंत्री,पशु एवं मत्स्य पालन मंत्री,लखीसराय के जिलाधिकारी,आरक्षी अधीक्षक,उपाधीक्षक,एवं वीरूपुर थाने में आवेदन देकर पाली ग्राम के मछुआरों के द्वारा नदी में जहर डालकर मछली मारने तथा इससे पर्यावरण को नुकसान पहुंचने तथा जहर मिले नदी के पानी को पीने से जानमाल के नुकसान की गंभीर आशंका व्यक्त करते हुए इसपर अबिलंब रोक लगाने की गुहार लगाई है।मुख्यमंत्री तथा अन्य अधिकारियों को भेजे आवेदन में कहा गया है कि दबंग मछुआरे नदी किनारे बसे गरीब लोगों को खाने के लिए भी मछली मारने पर रोक लगाते हैं तथा लोगों के साथ मारपीट करते हैं।मछुआरे नदी में बड़े बड़े जाल लगाकर यातायात को भी अवरूद्ध करते हैं तथा छोटे छोटे बीज मछलियों को भी नष्ट कर देते हैं।मछली मारने के दौरान ये मल्लाह नदी किनारे के खेतों में लगे फसल को भी नुकसान पहुंचाते हैं और मना करने पर असामाजिक तत्वों के द्वारा ग्रामीणों को धमकी दिलाते हैं।ग्रामीण विजय महतों,विपीन कुमार,पप्पू महतों,सीताराम महतों,नन्दे महतों,मदन कुमार,अनिल महतों सहित बड़ी संख्या में ग्रामीणों ने अधिकारियों ने इन मछुआरों की मनमानी पर रोक लगाने तथा उचित कारवाई करने की मांग की है।

About the author

AJIT KUMAR

अजित कुमार: आप पेशे से पत्रकार है। आप इलेक्ट्रोनिक और प्रिंट मीडिया में बड़हिया प्रखंड के लिए सेवा दे रहे है। बड़हिया में विकास को लेकर आप हर संभव प्रयास कर रहे है। बड़हिया के लिए अपना पूरा समय और सहयोग देते है। हर तरह से लोगों का उत्साह वर्धन भी करते है।

हमसे जुड़े

जरा हट के

पुराने समाचार यहाँ देखें