अपराध बड़हिया समाचार

जिले में बढ़ा अपराध का ग्राफ नियंत्रण आसान नहीं

एसपी का दावा मुस्तैदी के साथ काम कर रही पुलिस

बड़हिया में गोलू हत्याकांड से अपराधियों का बढ़ा मंसूबा

लखीसराय: अपराध और उग्रवाद प्रभावित लखीसराय जिले में भय मुक्त शासन देना पुलिस प्रशासन के लिए चुनौती रही है। बावजूद यह विडंबना ही है कि जिला गठन के बाद से लेकर अब तक कड़क पुलिस और प्रशासनिक अधिकारी बहुत दिनों तक यहां टिक नहीं पाए हैं। इसके पीछे चाहे कारण जो भी रहा हो लेकिन इतना तो तय है कि ऐसे अधिकारी राजनीतिक मोहरे के शिकार होते रहे हैं। वर्तमान में अशोक कुमार इस जिले के पुलिस कप्तान हैं। इनकी टीम भी यहां नई है। मात्र दो पुलिस अवर निरीक्षक बालेश्वर राय एवं राजेश तिवारी के अलावा पुलिस इंस्पेक्टर विजय कुमार रमण को छोड़ दें तो सभी नए पुलिस अधिकारी थानों की कमान थामे हैं। पुलिस की नई टीम के सामने सबसे बड़ी चुनौती पब्लिक के बीच अपनी पैठ बनाने की होगी। वैसे माणिकपुर ओपी के एसएचओ राजेश तिवारी एवं मेदनी चौकी थाना के एसएचओ बालेश्वर राय को संवेदनशील थानों की जिम्मेदारी देने की जरूरत महसूस की जा रही है। 1श्री राय इस जिले में काफी दिनों तक किऊल जीआरपी के प्रभारी रहे हैं। इन्हें जिले की भौगोलिक और आपराधिक जानकारी भी है। अवर निरीक्षक राजेश तिवारी हाल फिलहाल ही जिले में पदस्थापित हुए हैं लेकिन कबैया ओपी के एसएचओ के रूप में होटल शांति इन में वर्षो से संचालित देह व्यापार के धंधे का भंडाफोड़ कर अपनी कार्य क्षमता का परिचय उन्होंने कम समय में दिया। होटल के संचालक साधु शरण साव की अकूत संपत्ति का पता चला और आर्थिक अपराध के मामले में वह अब भी जेल में हैं। इसमें कोई दो राय नहीं की पुलिस कप्तान को अपनी टीम को गतिशील बनाने के लिए अवर निरीक्षकों एवं पुलिस इंस्पेक्टरों को उसकी कार्य क्षमता के अनुसार पदस्थापन नए सिरे से करना होगा। जानकारी के अनुसार जिले के विभिन्न थानों में करीब 800 से अधिक एसआर और नन एसआर मामले लंबित हैं। तबादले के बाद अनुसंधानक भी बदल गए। अभी प्रभार का आदान-प्रदान ही चल रहा है। ऐसे में पूरे मामले का अनुसंधान प्रभावित होना लाजिमी है। बड़हिया का गोलू अपहरण कांड पुलिस के लिए चुनौती बनी। हर हाल में गोलू को खोज लेने के पुलिसिया दावे के बीच उसकी लाश घर के पास के कुआं से बरामद हुई। 1लोकसभा चुनाव निकट है। बाहुबलियों द्वारा हथियार का प्रदर्शन, सड़क पर लूटपाट एवं रंगदारी जैसे मामले यहां कभी थमे नहीं। ऐसे में इसे भी चुनौती के रूप में लेना होगा। थानों में दर्ज सैकड़ों मामले ऐसे हैं जिसमें अज्ञात के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज है। इन अज्ञात अपराधियों की खोज भी पुलिस को करनी होगी।

अशोक कुमार, एसपी लखीसराय :-

लखीसराय जिले के नागरिकों को विश्वास दिलाता हूं कि भय मुक्त माहौल जिले में कायम करूंगा। पुलिस पूरी तत्परता के साथ लोगों की सुरक्षा करेगी। सभी लोगों को मान सम्मान मिलेगा और उन्हें त्वरित न्याय दिलाया जाएगा। सभी थानाध्यक्षों को लंबित मामले और अपराधियों की सूची संग्रहित कर उन्हें रिपोर्ट करने का कहा गया है। आम लोगों का सहयोग भी अपेक्षित है ताकि पुलिस और पब्लिक के बीच की दूरी कम हो सके।

हमसे जुड़े

जरा हट के

पुराने समाचार यहाँ देखें