बड़हिया

चुनाव को ले अलर्ट, मगर सुरक्षा भगवान भरोसे

लखीसराय : नक्सल प्रभावित लखीसराय जिला में भी लोकसभा चुनाव के मद्देनजर अलर्ट जारी है। इस बाबत डीएम और एसपी ने एहतियात के तौर पर कई कदम भी उठाए हैं। वाहनों की जांच, स्टेटिक सर्विलांस टीम का गठन सहित कई उपाय आयोग के निर्देश पर किया गया है। लेकिन महत्वपूर्ण बात यह है कि जिला मुख्यालय स्थित समाहरणालय की सुरक्षा भगवान भरोसे है। यहां एक ही परिसर में विभिन्न पुलिस और प्रशासनिक कार्यालय के अलावा डीएम आवास, न्यायिक व प्रशासनिक अधिकारियों के आवास हैं। जिला निर्वाचन कार्यालय एवं विभिन्न कोषांगों में देर रात तक निर्वाचन का कार्य किया जा रहा है। लेकिन सुरक्षा के नाम पर सबकुछ भगवान भरोसे है। स्थिति यह है कि मुख्य सड़क से समाहरणालय प्रवेश होकर डीएम के आवास एवं एसपी, एसडीपीओ कार्यालय तक न तो कोई जांच पड़ताल करने वाला है और न पुलिस महकमा को कोई मतलब है। स्थिति यह है कि कोई भी व्यक्ति वाहन लेकर कहीं भी प्रवेश कर सकता है। डीएम, एसपी, एसडीओ व अन्य अधिकारियों के अंगरक्षक को छोड़ दें तो पूरे कलेक्ट्रेट परिसर में सुरक्षा को देखने वाला एक सिपाही तक नहीं है। यह स्थिति तब है जब लगातार शहर में बैनर टांग कर नक्सली अपनी उपस्थिति दर्ज करा चुके हैं। कुछ वर्ष पूर्व दिनदहाड़े नक्सलियों ने कोर्ट परिसर में हमला कर पेशी के लिए लाए गए हार्डकोर नक्सली नेता मिसिर बेसरा को अपने साथ ले भागे। सुरक्षा व्यवस्था के प्रति अधिकारियों की उदासीनता कहीं किसी दिन भारी न पड़ जाए। इस ओर जिला प्रशासन को गंभीरता पूर्वक ध्यान देने की जरूरत है। अमूमन चुनाव के समय आचार संहिता के कारण भी समाहरणालय परिसर में वाहनों के प्रवेश पर रोक रहती है लेकिन यहां यह सिस्टम फेल है।

हमसे जुड़े

जरा हट के

पुराने समाचार यहाँ देखें