अपराध समाचार

जिले में चलाए जा रहे हैं दर्जनों फर्जी निजी नर्सिग होम एवं पैथलॉजी जांच घर

लखीसराय: लखीसराय जिले में दर्जनों फर्जी निजी नर्सिग होम एवं पैथलॉजी जांच घर चलाए जा रहे हैं। फर्जी तरीके से नर्सिग होम व क्लिनिक खोल कर ग्रामीणों की जान के साथ खिलवाड़ किया जा रहा है। ये ग्रामीण क्षेत्र के लोगों को अपने जाल में फंसा कर बेहतर ऑपरेशन व इलाज कराने के नाम पर मोटी रकम की वसूली कर रहे हैं। उन्हें किसी की जिंदगी से कोई मतलब नहीं है। स्वास्थ्य विभाग के अनुसार इनमें एक भी निबंधित नहीं है। मानें तो सभी अवैध हैं। ऐसे में रोगियों से मोटी राशि की वसूली की जा रही है और सरकार को राजस्व का चूना लगाया जा रहा है। जिला मुख्यालय में छोटा.बड़ा कुल मिलाकर एक दर्जन नर्सिग होम का संचालन विभिन्न नामों से किया जा रहा है। जबकि लगभग पचास की संख्या में पैथलॉजी है। पैथलॉजी में बगैर डिग्री वाले लोग ही विभिन्न तरह की जांच करते हैं और रोगियों से मोटी रकम वसूल कर रिपोर्ट भी गलत देते हैं। कई बार स्थानीय स्तर की जांच रिपोर्ट को गलत भी ठहराया जा चुका है। विभाग का कहना है कि नियम कानून को ताक पर रखकर नर्सिग होम एक्ट को दरकिनार कर मनमानेपन तरीके से निजी नर्सिग होम एवं पैथलॉजी संचालित है। जिले में एक भी निजी नर्सिग होम एवं पैथलॉजी निबंधित नहीं है। लेकिन डाक्टर विभिन्न नामों से नर्सिग होम संचालित कर रहे हैं। वहीं पैथलॉजिस्ट डिग्रीधारी द्वारा पैथलॉजिकल टेस्ट किया जा सकता है। लखीसराय स्वास्थ्य जिला के रूप में 1996 में सृजित हुआ है। परंतु निजी नर्सिग होम एवं पैथलॉजी खोलने से संबंधित राज्यादेशए नियमए कानून अथवा किसी प्रकार का विभागीय पत्र उपलब्ध नहीं है। इधर जिले में एमबीबीएस डाक्टरों के अलावे कुछ झोलाछाप डाक्टर भी विभिन्न नामों से निजी नर्सिग होम चला रहे हैं। शहर में एक दर्जन एक्स.रे सेंटर है लेकिन विभाग के पास इसकी जानकारी तक नहीं है। ऐसे में रोगियों के साथ कितना छल किया जा रहा है इसका अंदाजा लगाया जा सकता है। ण्ण्महावीर साव की 30 बर्षीय पत्नी नेहा देवी की मौत गलत तरीके से बच्चेदानी का आपरेशन किए जाने के कारण हो गई।

मननपुर बाजार स्थित जय बाबा गोविन्द सेवा सदन में उसका ऑपरेशन कराया गया था। इसके बाद अचानक पेट में दर्द की सूचना नर्सिग होम के एक कंपाउंडर ने उसे सूई दी। सूई के बाद महिला बेहोश हो गई। काफी देर के बाद भी होश नहीं आने पर परिजन उसे उक्त नर्सिग होम में ले गए। जहां डाक्टर ने उसे बिना किसी पुर्जे का जमुई रेफर कर दिया। वहां जाने पर किसी डाक्टर ने मरीज को भर्ती नहीं किया। थकहार कर डोमन यादव अपनी पत्नी को लेकर पटना गया। वहां जब मरीज के पेट का अल्ट्रासाउंड कराया गया तो उसके पेशाब के रास्ते कट जाने की पुष्टि की गई। वहां मरीज दो दिनों तक बेहोशी के हालत में रहा और अंत में उसकी मौत हो गई।

बता दें कि मननपुर बाजार में लगभग आधा दर्जन बिना रजिस्ट्रेशन का फर्जी नर्सिग होम व क्लिनिक धड़ल्ले से संचालित हो रहा है। और इन सभी नर्सिग होम में भ्रूण हत्याए कम उम्र की महिला की बच्चेदानी की निकासी सहित अन्य तरह के ऑपरेशन अकुशल चिकित्सक द्वारा किया जा रहा है। बताया जाता है कि सभी जगह एमबीबीएस डाक्टर की बोर्ड लगी है लेकिन इसकी आड़ में झोलाछाप डाक्टर भी कई जगह लोगों को चूना लगा रहे हैं।
समाज विकसित करने तथा विभिन्न योजनाओं के क्रियान्वयन के सरकार की तमाम कोशिशों के बावजूद विभाग बेखबर है। स्वास्थ्य केंद्रों की स्थिति में सुधार होने का नाम नहीं ले रहा है। रोगी के घंटों इन्तजार के बाद भी दिन के ग्यारह बजे तक एक भी डॉक्टर नहीं आए। प्रतीक्षा कर रहे रोगियों ने चिकित्सक की लापरवाही पर क्षोभ व्यक्त करते हुए विभाग के वरीय पदाधिकारी से चिकित्सा सुविधा में सुधार लाने की मांग की।
अस्पाताल प्रबंधक डा0 नन्दकिशोर भारती ने बताया कि लखीसराय जिला में 50 फर्जी नर्सिंग होम और फर्जी अस्पाताल संचालित होरहा है। जिसमे राधेराज होशपिटलए अग्रवाल क्लिीनिकए नेत्रलोक होरूपीटलए मेही सेवा सदनए गुडडु नर्सिंग होम मे जांच किया गया लाईसेन्स जमा करने की बात कहा गया । जिसमें अग्रवाल क्लिीनिक को सील कर दिया गया है।
सर्जन डा0 ण्शशि भूषण प्रसाद शर्मा ने बताया कि एमबीबीएस डाक्टर अपना नेमप्लेट लगाकर प्रैक्टिस कर सकते हैं। परंतु बिना निबंधन कराए किसी अन्य नाम से निजी नर्सिग होम नहीं चला सकते हैं।सिविल सर्जन डा शशि भूषण प्रसाद शर्मा ने बताया कि लखीसराय जिला में 50 फर्जी नर्सिंग होम और फर्जी अस्पाताल संचालित हो रहा है। जिसमे 3 फर्जी हास्पीटल अग्रवाल क्लिीनिक नेत्रलोक होरूपीटल व निजि राधेराज हास्पिटल को बन्द करने का आदेश दिया । हास्पिटल में लगा ताला । मेही सेवा सदन गुडडु नर्सिंग होम मे जांच किया गया लाईसेन्स जमा करने की बात कहा गया । जिसमें अग्रवाल क्लिीनिक को सील कर दिया गया है।

हमसे जुड़े

जरा हट के

पुराने समाचार यहाँ देखें