बड़हिया

भूखी-प्यासी दो दिनों तक घर में कैद रही महिला

एक महिला के साथ उसके ससुराल में सिर्फ मारपीट ही नहीं की जाती थी बल्कि यातना की सारी हदें पार कर दी गई थी। महिला को दो दिनों से भूखे-प्यासे कमरे में बंद कर रखा गया था। इसमें महिला के पति सहित उसके ससुराल के अन्य लोग भी शामिल थे। जब पड़ोसियों को उसकी यातना देखी नहीं गई तो उसके मायके वालों को सूचना दी। महिला के मायके वालों ने पहुंचकर उसे मुक्त कराया और इलाज के लिए सदर अस्पताल में भर्ती कराया। जहां पुलिस ने महिला का बयान दर्ज किया। मामला कबैया थाना क्षेत्र के हनुमान नगर से जुड़ा हुआ है जहां गुड्डू मंडल अपनी मां शांति देवी एवं बहन उर्मिला देवी के साथ मिलकर बेबी देवी के साथ घटना को अंजाम दिया। उसके साथ न सिर्फ बेरहमी के साथ मारपीट की, बल्कि भूखा-प्यासा दो दिनों तक घर में बंद कर रखा। पड़ोसियों की सूचना पर बेबी देवी के पिता रानीगंज (पश्चिम बंगाल) निवासी शंभू महतो, बहन सुषमा देवी, दादी रानी देवी सहित परिवार के अन्य लोगों ने मंगलवार को हनुमान नगर पहुंचकर ग्रामीणों के सहयोग से घर का ताला खुलवाया और इलाज के लिए बेबी देवी को सदर अस्पताल में भर्ती कराया। इलाज के दौरान ससुराल वालों की प्रताड़ना से पीड़ित बेबी देवी रह-रहकर बेहोश हो जा रही थी। बताया, उसकी शादी वर्ष 2009 में हनुमान नगर निवासी गुड्डू मंडल के साथ हुई थी। शादी के कुछ दिन बाद तक उसकी गृहस्थी ठीक-ठाक चली। एक वर्ष पूर्व उसे रानीगंज (पश्चिम बंगाल) स्थित मायके में ही एक पुत्र हुआ। इस दौरान उसके पिता ने काफी खर्च भी की। उसके बाद ससुराल आने पर पति गुड्डू मंडल, सास शांति देवी एवं ननद उर्मिला देवी मायके से 25 हजार रुपए लाने के लिए दबाव देने लगे। परंतु वह रुपए लाने के लिए तैयार नहीं हुई। दो दिन पूर्व पति, सास एवं ननद ने मिलकर उसे घर में बंद कर दिया तथा भूखा-प्यासा रखकर उसके साथ कई बार मारपीट की। उधर कबैया थाना पुलिस ने महिला का बयान दर्ज कर प्राथमिकी की कार्रवाई शुरू कर दी है।

हमसे जुड़े

जरा हट के

पुराने समाचार यहाँ देखें